क्यों आते हैं हमारे पास ऐसे पोस्ट, जिसका कोई मतलब नहीं : फेक न्यूज़

एक राष्ट्रीय छुट्टी के रूप में सम्मान करने के लिए स्वतंत्रता दिवस या राष्ट्रीय दिवस शायद सबसे महत्वपूर्ण दिन हैं।

कई देशों के लिए स्वतंत्रता दिवस की तारीख स्वतंत्रता या राष्ट्रीय नायक के जन्म के लिए लड़े युद्ध की हो सकती है, जिसने देश को स्वतंत्रता के संघर्ष में मदद की। चीनी हर साल 1 अक्टूबर को चीन के जनवादी गणराज्य की नींव को चिह्नित करते हुए अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। केंद्रीय पीपुल्स सरकार ने 2 दिसंबर, 1949 को चीन के जनवादी गणराज्य के राष्ट्रीय दिवस पर संकल्प पारित किया और चीन के राष्ट्रीय दिवस या स्वतंत्रता दिवस के रूप में घोषित किया।

वायरल फेसबुक पोस्ट –

अर्थात वायरल इमेज में किया गया दावा गलत है क्योंकि चीन कभी किसी का गुलाम नहीं हुआ, इस पोस्ट को फेसबुक में तेजी से वायरल किया जा रहा है रहिए गलत खबरों से सावधान  with FAKENEWSALARM.COM

चीन का इतिहास ( HISTORY OF CHINA)-

इतिहास बहुत लंबा है और हम इस पोस्ट में चीन के कुछ महत्वपूर्ण राजवंशों के बारे में बताएंगे वैसे तो इनमें से एक को छोड़कर किसी भी राजवंश में पूरे के पूरे चीन पर कभी भी शासन नहीं किया पर फिर भी उनमें से कई का अधिकार चीन के पूर्वी क्षेत्र पर रहा , यहां आज भी चीन की 90% जनसंख्या रहती है

चीन, पूर्वी एशिया में एक सांस्कृतिक राज्य और प्राचीन सभ्यता, दुनिया की सबसे पुरानी अग्रणी सभ्यताओं में से एक है, जिसमें छह सहस्राब्दी से अधिक समय से राज्य और संस्कृतियां शामिल हैं। चीन दुनिया की सबसे लंबी लगातार लिखित भाषा प्रणाली है, और दुनिया के कई महान आविष्कारों का स्रोत भी है, जिसमें प्राचीन चीन-पेपर, कम्पास, गनपाउडर और प्रिंटिंग के चार महान आविष्कार शामिल हैं।

आपको ये भी रोचक लगेगा-

#   यह एक फेक न्यूज़ है जो Facebook में तेजी से वायरल किया जा रहा है।

#    प्रधानमंत्री मोदी चोर : यह फेक न्यूज़ है, जो फेसबुक में वायरल

#   ट्रैवल गाइड, जिन्होंने बनाया दुनिया का नक़्शा

#   पाबंदियों के बावजूद मुनाफे में चीन, अमेरिका के साथ चीन का व्‍यापार रिकॉर्ड स्‍तर पर

चीन विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और यह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थाई सदस्य भी है। यह विश्व का सबसे बड़ा निर्यातक और दूसरा सबसे बड़ा आयातक है और एक मान्यता प्राप्त नाभिकीय महाशक्ति है। चीनी साम्यवादी दल के अधीन रहकर चीन में “समाजवादी बाज़ार अर्थव्यवस्था” को अपनाया जिसके अधीन पूंजीवाद और अधिकारवादी राजनैतिक नियन्त्रण सम्मित्लित है। विश्व के राजनैतिक, आर्थिक और सामाजिक ढाँचे में चीन को 21वीं सदी की अपरिहार्य महाशक्ति के रूप में माना और स्वीकृत किया जाता है।

पढ़िए उन खबरों को जो बनाएं आपका भविष्य, इस DIGITAL दुनिया में खुद के स्मार्ट होने का सही परिचय दे और भारतीय होने पर गर्व करें with FAKENEWSALARM.COM

SHARE THIS

Leave a Reply